श्री गणेश चालीसा पाठ | Ganesh Chalisa PDF Free Download Hindi

Ganesh Chalisa PDFGanesh Chalisa PDF | श्री गणेश चालीसा PDF यदि आप download करना चाहते है तो आप बिलकुल सही जगह पर आये हैं | श्री Ganesh Chalisa PDF Download करने का सबसे आसान तरीका | श्री गणेश चालीसा PDF को Download करने की link नीचे दी गयी है | आप नीचे दी गयी लिंक से PDF आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं और Ganesh Chalisa का पाठ करें | |

About Ganesh Chalisa PDF |  श्री गणेश चालीसा पाठ जानकारी

Ganesh Chalisa PDF | श्री गणेश चालीसा का पाठ किसी भी शुभ कार्य को आरम्भ करने से पहले किया जाता है | श्री गणेश चालीसा का पाठ करने से सभी कार्य सफलपूर्वक होते है तथा घर में सुख शांति बनी रहती है | यह पाठ ४० छंदो में विस्तृत है | इस पाठ को करने से जीवन की हर बाधाएं समाप्त हो जाती हैं | इस पाठ के हर पंक्तियों में श्री गणेश जी की ज्ञान, शक्ति और करुणा का संक्षिप्त रूप से वर्णन किया गया है |

Ganesh Chalisa PDF Lyrics in Hindi | श्री गणेश चालीसा

ganesh chalisa

।। श्री गणेश चालीसा ।।

।। दोहा ।।

जय गणपति सदगुण सदन । कविवर बदन कृपाल ।।
विघ्न हरण मंगल करण । जय जय गिरिजालाल ।।
जय जय गिरिजालाल । जय जय गिरिजालाल ।।

।। चौपाई ।।

जय जय जय गणपति गणराजू । मंगल भरण करण शुभ काजू ।।
जय गजबदन सदन सुखदाता । विश्व विनायक बुद्घि विधाता ।।
वक्र तुण्ड शुचि शुण्ड सुहावन । तिलक त्रिपुण्ड भाल मन भावन ।।

राजत मणि मुक्तन उर माला । स्वर्ण मुकुट शिर नयन विशाला ।।

पुस्तक पाणि कुठार त्रिशूलं । मोदक भोग सुगन्धित फूलं ।।
सुन्दर पीताम्बर तन साजित । चरण पादुका मुनि मन राजित ।।
धनि शिवसुवन षडानन भ्राता । गौरी ललन विश्व-विख्याता ।।
ऋद्धि सिद्धि तव चँवर सुधारे । मूषक वाहन सोहत द्वारे ।।

कहौ जन्म शुभ-कथा तुम्हारी । अति शुचि पावन मंगलकारी ।।
एक समय गिरिराज कुमारी । पुत्र हेतु तप कीन्हो भारी ।।
भयो यज्ञ जब पूर्ण अनूपा । तब पहुंच्यो तुम धरि द्विज रुपा ।।

अतिथि जानि कै गौरि सुखारी । बहुविधि सेवा करी तुम्हारी ।।

अति प्रसन्न ह्वै वर दीन्हा । मातु पुत्र हित जो तप कीन्हा ।।
मिलहि पुत्र तुहि बुद्धि विशाला । बिना गर्भ धारण यहि काला ।।
गणनायक गुण ज्ञान निधाना । पूजित प्रथम रुप भगवाना ।।
अस कहि अन्तर्धान रुप ह्वै । पलना पर बालक स्वरुप ह्वै ।।

बनि शिशु रुदन जबहिं तुम ठाना । लखि मुख सुख नहिं गौरि समाना ।।

सकल मगन सुखमंगल गावहिं । नभ ते सुरन सुमन वर्षावहिं ।।
शम्भु उमा बहुदान लुटावहिं । सुर मुनि जन सुत देखन आवहिं ।।
लखि अति आनन्द मंगल साजा । देखन भी आये शनि राजा ।।

निज अवगुण गुनि शनि मन माहीं । बालक देखन चाहत नाहीं ।।
गिरिजा कछु मन भेद बढ़ायो । उत्सव मोर न शनि तुहि भायो ।।
कहन लगे शनि मन सकुचाई । का करिहौ शिशु मोहि दिखाई ।।
नहिं विश्वास उमा उर भयऊ । शनि सों बालक देखन कह्यऊ ।।

पडतहिं शनि दृग कोण प्रकाशा । बोलक सिर उड़ि गयो अकाशा ।।
गिरिजा गिरीं विकल ह्वै धरणी । सो दुख दशा गयो नहीं वरणी ।।
हाहाकार मच्यो कैलाशा । शनि कीन्ह्यों लखि सुत का नाशा ।।
तुरत गरुड़ चढ़ि विष्णु सिधाये । काटि चक्र सो गज शिर लाये ।।

बालक के धड़ ऊपर धारयो । प्राण मंत्र पढ़ि शंकर डारयो ।।
नाम गणेश शम्भु तब कीन्हे । प्रथम पूज्य बुद्घि निधि वर दीन्हे ।।
बुद्धि परीक्षा जब शिव कीन्हा । पृथ्वी कर प्रदक्षिणा लीन्हा ।।
चले षडानन भरमि भुलाई । रचे बैठ तुम बुद्घि उपाई ।।

चरण मातु-पितु के धर लीन्हें । तिनके सात प्रदक्षिण कीन्हें ।।
धनि गणेश कहि शिव हिय हरषे । नभ ते सुरन सुमन बहु बरसे ।।
तुम्हरी महिमा बुद्धि बड़ाई । शेष सहस मुख सकै न गाई ।।
मैं मति हीन मलीन दुखारी । करहुं कौन विधि विनय तुम्हारी ।।

भजत रामसुन्दर प्रभुदासा । जग प्रयाग ककरा दुर्वासा ।।
अब प्रभु दया दीन पर कीजै । अपनी भक्ति शक्ति कछु दीजै ।।
श्री गणेश यह चालीसा । पाठ करै कर ध्यान ।।

।। दोहा ।।

नित नव मंगल गृह बसै । लहे जगत सन्मान ।।
संभंध अपने सहस्त्र दश । ऋषि पंचमी दिनेश ।।
पूरण चालीसा भयो । मंगल मूर्ति गणेश ।।
मंगल मूर्ति गणेश । मंगल मूर्ति गणेश ।।

Ganesh Chalisa karne ke faayde | श्री गणेश चालीसा पाठ करने के फायदे

1. विघ्नों को दूर करता है भगवान गणेश विघ्नहर्ता के रूप में जाने जाते हैं। गणेश चालीसा का पाठ करने से आपके जीवन में आने वाली बाधाओं या चुनौतियों को दूर करने में मदद मिल सकती है।

2. बुद्धि बढ़ाता है: गणेश चालीसा का पाठ करने से व्यक्ति ज्ञान और ज्ञान प्राप्त कर सकता है, क्योंकि भगवान गणेश को ज्ञान के देवता के रूप में भी जाना जाता है।

3. सफलता को बढ़ावा देता है: भगवान गणेश सफलता के देवता हैं। गणेश चालीसा का पाठ करने से जीवन के सभी क्षेत्रों में सफलता को बढ़ावा देने में मदद मिल सकती है।

4. सकारात्मकता बढ़ाता है: गणेश चालीसा का जाप सकारात्मकता बढ़ाने और आपके आसपास की नकारात्मक ऊर्जा को कम करने में मदद कर सकता है।

5. समृद्धि लाता है: भगवान गणेश धन और समृद्धि से भी जुड़े हुए हैं। गणेश चालीसा का पाठ करने से समृद्धि और प्रचुरता को आकर्षित करने में मदद मिल सकती है।

6. आंतरिक शांति को बढ़ावा देता है: गणेश चालीसा का पाठ करने का कार्य मन पर शांत प्रभाव डाल सकता है और आंतरिक शांति को बढ़ावा दे सकता है।

7. सुरक्षा प्रदान करता है भगवान गणेश को रक्षक भी माना जाता है। गणेश चालीसा का पाठ करने से नकारात्मक ऊर्जा और बुरी शक्तियों से सुरक्षा मिल सकती है।

8. भय दूर करने में मदद करता है: भगवान गणेश लोगों को उनके डर पर काबू पाने में मदद करने के लिए जाने जाते हैं। गणेश चालीसा का पाठ करने से डर और चिंता को कम करने में मदद मिल सकती है।

9. आध्यात्मिकता को बढ़ाता है: गणेश चालीसा का पाठ करने से व्यक्ति आध्यात्मिक क्षेत्र से जुड़ सकता है और अपनी आध्यात्मिक यात्रा को बढ़ा सकता है।

10. भक्ति बढ़ाता है: गणेश चालीसा का पाठ करने से भक्ति बढ़ाने और भगवान गणेश में विश्वास मजबूत करने में मदद मिल सकती है।

Ganesh Chalisa Paath karne ki Vidhi | श्री गणेश चालीसा पाठ करने की विधि

यहाँ गणेश चालीसा पाठ करने के चरण दिए गए हैं:

1. मार्ग करने के लिए एक स्वच्छ और शांतिपूर्ण स्थान खोजें।

2. स्नान करके स्वच्छ वस्त्र धारण करें।

3. भगवान गणेश की मूर्ति या तस्वीर के सामने एक दीपक और अगरबत्ती जलाएं।

4. भगवान गणेश का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए तीन बार गणेश बीज मंत्र "ओम गं गणपतये नमः" का जाप करें।

5. पूरी श्रद्धा और एकाग्रता के साथ गणेश चालीसा का पाठ करना शुरू करें।

6. आप चालीसा का पाठ कितनी बार करते हैं, इसकी गणना करने के लिए आप एक माला या प्रार्थना की माला का उपयोग कर सकते हैं। यह आमतौर पर 108 बार जप किया जाता है।

7. मार्ग पूर्ण करने के बाद भगवान गणेश को फूल, फल और मिठाई प्रसाद के रूप में अर्पित करें।

8. मार्ग का अंत भगवान गणेश की आरती से करें और उनका आशीर्वाद लें।

9. सभी उपस्थित लोगों को प्रसाद वितरण कर समापन करें।

10. यह सलाह दी जाती है कि प्रतिदिन या मंगलवार और भगवान गणेश से संबंधित विशेष अवसरों, जैसे गणेश चतुर्थी को मार्ग का पालन किया जाए।

Ganesh Chalisa Download Video

Ganesh Chalisa PDF Download Link

ganesh-chalisa.pdf

×

3 thoughts on “श्री गणेश चालीसा पाठ | Ganesh Chalisa PDF Free Download Hindi”

Leave a Comment